भारतवर्ष में पूजा के समय स्त्रोत का क्या महत्व है?

भारतवर्ष देवी देवताओं एवं मंदिरों का देश है. भारतवर्ष में आस्था का स्थान सर्वोपरि है. यहां पर लोग अपने देवी-देवताओं एवं कुल पूजा के लिए सभी निर्माण करते हैं. ऐसे में देवी-देवताओं के स्त्रोत की पूजा करना और उनका मंत्रोचार करना यह यहां की पूजन विधि की एक कला एवं…

महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र (अयि गिरिनन्दिनि) – Mahisasurmardini Stotram (Aigiri Nandini) in Hindi

महिषासुर मर्दिनी स्तोत्र इन हिंदी अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दिनुतेगिरिवरविन्ध्यशिरोऽधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते।भगवति हे शितिकण्ठकुटुम्बिनि भूरिकुटुम्बिनि भूरिकृतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि.. ॥ सुरवर वर्षिणि दुर्धर धर्षिणि दुर्मुख मर्षिणि हर्षरतेत्रिभुवनपोषिणि शङ्करतोषिणि किल्बिष मोषिणि घोषरते।दनुजनिरोषिणि दितिसुतरोषिणि दुर्मदशोषिणि सिन्धुसुतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि… ॥ अयि जगदम्ब मदम्ब कदम्ब वनप्रिय वासिनि हासरतेशिखरि शिरोमणि तुङ्गहिमालय शृङ्गनिजालय मध्यगते।मधुमधुरे मधुकैटभ…
1 3 4 5 6 7 18