प्रधानमंत्री सुधाकर पाण्डेय poem quote by shailendra kumar mishra

राष्ट्र भाषा-स्वप्न दृष्टा “सुधाकर”!

………….. श्रद्धांजलि’…………

राष्ट्र भाषा-स्वप्न दृष्टा”सुधाकर”!
————————————
‘पंडित’जी को हम सब करते प्रणाम;
युग-युग!जग में रहे उनका नाम!!
‘सभा’ ‘औ ‘काशी ! विश्व में गूंजे;
सुधा-सम सुधाकर!का है नाम!!

१८अप्रैल, जिनकी पुण्यतिथि है, ऐसे हिंदी सेवक ,नागरी प्रचारिणी सभा,काशी के—-
प्रधानमंत्री सुधाकर पाण्डेय जी को मेंरा
शत् शत् नमन करते हुए एक हिंदी सेवक–

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.